कुणाल गुप्ता, समस्तीपुर: आखिर बड़े हादसों के बाद ही जिलाप्रशासन क्यों जागती है,क्या दर्घटना होने का इन्तेजार करती है? आज इसी मुद्दे को BHAGALPUR NOW ने बड़ी प्रमुखता से उठाया है । इसमें महत्तवपूर्ण भूमिका रही हमारे स्थानीय संवाददाता कुणाल गुप्ता की जो समस्तीपुर में रविवार को भीषण हादसे पर प्रकाश डाल रहे हैं ।

  पुलिस अपने कामों से बहुत नाम कमा चुकी है और अब कुछ दिनो से समस्तीपुर जिले मे हुये समस्तीपुर-मुसरीघरारी पथ पर भयानक ट्रक और ऑटो में हुये टक्कर की वजह से 11 लोगो की जान चली गई थी इसे लेकर भी चर्चा में आगई है और सवाल ये है की आखिर जब कोई बड़ा हादसा होता है तब ही प्रशासन को क्यो नींद खुलती है और कुछ दिन यातायात व्यवस्था को दुरुस्त कर फिर जईसे के तैसो हरियणा वाली कहावत हो जाती है । 

सड़कों पर ओवरलोड कर के ऑटो से लेकर कई वाहन बड़े आराम से घूमते है , और अगर कोई पुलिस वाला मिल भी गया तो रुपय दे कर बड़े आराम से निकल जाते है यह सिर्फ समस्तीपुर जिले की हालत नही बल्कि बिहार के बड़े बड़े शहरो की यही हालत है । 

यातायात व्यवस्था के नाम पर यह गोरख धँधा होता रहता है जब कोई बड़ा हादसा होता है तो यह गोरख धँधा कुछ दिनो के लिये बंद हो जाती फिर मामला शाँत होने पर पुनः चलने लगती है ,

घटना के बाद समस्तीपुर शहर में प्रशासन के तरफ से यातायात व्यवस्था को सही तरीके से लागू करने के लिये कई कदम उठाये गये । 
वही जिले के दलसिंहसराय अनुमंडल प्रशासन ने मुसरीघरारी में हुई सड़क हादसे से सतर्क होते हुए शहर को जोड़ने वाली विभिन्न मार्गो पर अभियान चलाकर एक बस सहित दो दर्जन ऑटो को जब्त कर आवश्यक कार्रवाई की । 

पर सवाल यह उठता है कि एक दिन की कारवाई से क्या यह सब रुक जायेगा ? 

अभियान में अनुमंडल पदाधिकारी विष्णुदेव मंडल, एएसपी संतोष कुमार ने दलसिंहसराय थानाध्यक्ष नरेश पासवान सहित कई पुलिस बल शहर के 32 नंबर रेलवे गुमटी, महावीर चौक, एन.एच  28 के सरदार गंज चौक, विद्यापतिनगर रोड, बस स्टेंड, डैनी चौक और मंसुरचक रोड से एक मीनी बस और करीब 23 ओवरलोड ऑटो, एक जीप , मैजीक सवारी को जब्त कर लिया। 

इस दौरान एएसपी संतोष कुमार ने बस स्टेड और मंसुरचक रोड पर लाउस्पीकर के माध्यम से मोटर वाहन अधिनियम को हर हाल में लागू करने के लिए चालको और वाहन स्वामी को सतर्क करते हुए इसे लागू करने का आह्वान किया। हालाँकि पुलिस की इस कार्रवाई से ऑटो चालको में कुछ देर के लिये तो हड़कंप मच गया पर इस अभियान को आगे भी जारी रखना पुलिस के लिए एक चुनौती होगी ।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here