पेट्रोल पंप पर टॉयलेट अनिवार्य, नहीं तो लाइसेंस होगा रद

0
13

भागलपुर।

सरकार ने हर पेट्रोल-डीजल पंप पर पब्लिक टॉयलेट अनिवार्य कर दिया है। जहा यह नहीं होगा, उन पंप के खिलाफ कार्रवाई होगी। सरकार ने पब्लिक टॉयलेट न होने वाले पंपों की एनओसी रद करने का फैसला लिया है। यह सभी जिलों के डीएम को भेजा गया है। जिला प्रशासन पेट्रोल-डीजल पंप का आपूर्ति विभाग से सर्वे कराएगा। जिन पंप पर टॉयलेट नहीं होंगे, उनके संचालकों को नोटिस जारी किया जाएगा। एक अवधि तय कर टॉयलेट बनवाने के निर्देश दिए जाएंगे। यदि इसके बावजूद निर्माण नहीं कराया जाता है तो पंप की एनओसी रद की जाएगी। यह एनओसी जिलाधिकारी दफ्तर से ही जारी की जाती है।

स्वच्छ भारत मिशन के तहत देश को खुले में शौच से मुक्त करने के साथ ही स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। मगर, पेट्रोल-डीजल पंप के टॉयलेट पर तमाम लोग ताला भी डालकर रखते हैं। ऐसे में सफर के दौरान बच्चे, बुजुर्ग और महिलाओं को हाइवे पर इधर-उधर लघुशका करने जाना पड़ता है। जबकि, वहा सभी पब्लिक सहूलियत होने का नियम है।

शहर में जितने भी पेट्रोल पंप हैं, सभी के टॉयलेट पर ताला लटका रहता है। इसका उपयोग पेट्रोल पंप के मैनेजर व कर्मचारी करते हैं। नेशनल हाइवे व स्टेट हाइवे के किनारे स्थित पेट्रोल पंपों पर भी ताला लटकने वाली ही स्थिति रहती है। इक्का-दुक्का लोगों को ही टॉयलेट की सुविधा मिल पाती है। कई बस चालक पेट्रोल पंप गाड़ी लगाकर डीजल भरवाते हैं। इस दौरान यात्री लघुशंका आदि के लिए उतरते हैं। लेकिन इसके लिए उन्हें सड़क किनारे जाना पड़ता है। शौच के लिए तो खेत में जाना पड़ता है। कहीं टॉयलेट है तो पानी की सुविधा नहीं है। हालांकि गिनती के कुछ ऐसे भी पेट्रोल पंप हैं जहां टॉयलेट की सुविधा हर किसी को मिलता है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here