पाक में एक और हिंदू युवती का जबरन निकाह

0
20

नई दिल्ली।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदुओं का सम्मान से जीना और मुश्किल होता जा रहा है। अभी तक वहां गरीब हिंदुओं परिवारों की लड़कियों का ही अपहरण कर उन्हें जबरन मुस्लिम बनाने के मामले में सामने आते थे, लेकिन अब हालात बेकाबू से दिखते हैैं और कोई भी हिंदू लड़की सुरक्षित नहीं दिखती।

सिंध प्रांत के खैरपुर जिले की शिक्षिका आरती बनी नई शिकार
बीते हफ्ते सिंध प्रांत के खैरपुर जिले के कासिम मॉडल स्कूल की शिक्षिका आरती कुमारी को इलाके के दंबंग जमींदार आमिर वासन ने अगवा कर लिया। शिक्षिका आरती के घर वालों ने उसे छुड़ाने के लिए हर तरफ भाग-दौड़ की और यहां तक कि स्थानीय प्रेस क्लब के समक्ष प्रदर्शन भी किया, लेकिन उनकी वैसे ही कोई सुनवाई नहीं हुई जैसे अन्य हिंदू लड़कियों के अपहरण के मामलों में नहीं हुई। धार्मिक उत्पीडऩ के आधार पर अमेरिका में शरण पाने वाले आरती के चाचा किश्वर शर्मा के मुताबिक, भतीजी के अपहरण की खबर ने उन्हें अंदर तक हिला दिया है। उनकी गुहार पर हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन ने सिंध हाई कोर्ट से 19 साल की आरती को रिहा कराने की अपील की है। अमेरिका के ह्यूस्टन में रह रहे किश्वर ने इस फाउंडेशन को बताया कि आरती उनके परिवार की दूसरी लड़की है, जो अपहरण का शिकार हुई है।
खैरपुर में जब आरती के अपहरण के मामले ने तूल पकड़ा तो एक स्थानीय मदरसे की ओर से एक दस्तावेज पेशकर यह दावा किया गया कि आरती ने स्वेच्छा से इस्लाम स्वीकार करके एक मुस्लिम युवक अमीर बख्श सेे निकाह कर लिया है और अपना नया नाम महाविश रख लिया है। आरती के छल-बल से धर्मांतरण और निकाह पर इलाके के हिंदू संगठनों ने पाकिस्तान के विभिन्न दलों के वरिष्ठ नेताओं का ध्यान खींचा है, लेकिन सोशल मीडिया पर एक-दुक्का पाकिस्तानी पत्रकारों के अलावा अन्य कोई उनके साथ खड़े होने के लिए आगे नहीं आया है। सिंध प्रांत में हिंदू लड़कियों को अगवा कर उनका जबरन निकाह आम है। सिंध के हिंदू संगठनों के मुताबिक हर साल करीब एक हजार हिंदू लड़कियों का अपहरण होता है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here