न्यूज़ डेस्क :  भागलपुर के आयकर विभाग से निकलकर  अब बड़ी खबर आ रही है , जिससे  भागलपुर के लोगों में हड़कंप मच गया है .आयकर विभाग ने स्पस्ट कर दिया है कि रीयल इंस्टेट के कारोबारी  अब आयकर भागलपुर के निशाने पर हैं. कर वंचना कर अकूत संपत्ति बनाने वालों की विभाग में सूची तैयार हो रही है. यह सूची पूरे जिले के3 अंतर्गत विभिन्न इलाकों से एकत्रित  सर्वेक्षण के आधार पर की जा रहिं  है 

 हमारे सुत्रोंने कहा कि आयकर विभाग, भागलपुर क्षेत्र को इस वित्तीय वर्ष में करीब 300 करोड़ रुपये टैक्स व अग्रिम वसूली का लक्ष्य दिया गया है.  प्रधान आयकर आयुक्त स्वयं प्रतिदिन  जिलों से रिपोर्ट लेकर इसकी समीक्षा कर रहे हैं. भागलपुर सहित आधा दर्जन जिलों में जहां रीयल इस्टेट का कारोबार फलफूल रहा है ,वहां से अपेक्षाकृत काफी कम टैक्स जमा  होता है . भागलपुर आयकर  विभाग के लिए यह चिंता का विषय है.आयकर  विभाग ने जिलों में तैनात अफसरों को रीयल इस्टेट के कारोबारियों पर नजर रखने का निर्देश दिया है.हमारे सूत्रों ने कहा कि  विभाग के अधिकारिक  भागलपुर  के 14 अंचल में काफी संख्या में रीयल इस्टेट का कारोबार फलफूल रहा है.ऐसे ही कारोबारियों की सूची तैयार हो रही है.जो विगत वर्षों में कर वंचना कर रहे थे.कई कारोबारी दिसंबर तक की अवधि में टैक्स जमा नहीं किए हैं.

कारोबारियों की पहचान के लिए जिलों में विभाग का सर्वे चल रहा है.कई डॉक्टर, नर्सिंग होम तथा कोचिंग संस्थानों को आयकर ने टारगेट में रखा है,जैसा कि जानकारी मिल राहींहै . गत वर्ष की तुलना में लक्ष्य को सरकार ने दुगुना कर दिया गया है.वैसे पिछले छह माह के प्रयास में विभाग ने अब तक 50 फीसद से अधिक टैक्स की वसूली कर ली है.जो भी हो इस हरकत में आये आयकर विभाग ने शहर में हड़कम्प मचा  दिया है 

जब आयकर  विभाग के एक अधिकारी  सुनील शर्मा से  बात की गई तो   कहा कि अगर कोई टेक्स नही देगा तो कार्रवाई तो होगी ही,  जब कोई कर नही देगा तो सरकारी खजाना कहा से भरेगा .

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here