बयूरो चीफ,भागलपुर:

हैदराबाद : आज हम बात कर रहे हैं NAF अर्थात

नेशनल एजेंडा फोरम की,जिसकी बहुत कम समय मे ख्याति बहुत ज्यादा हो चुकी है।

इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमिटी ने बापू अर्थात गांधी जी के 150वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए 29 जून 2018 को नेशनल एजेंडा फोरम (NAF) को लॉन्च किया है।

NAF एक देशव्यापी पहल है, जिसके
जरिए गांधीजी के 18-सूत्रीय रचनात्मक कार्यक्रम पर चर्चा को पुनर्जीवित करना और इस चर्चा के जरिए देश की प्राथमिकताओं को पुनर्कल्पित और सहनिर्मित कर, समकालीन भारत के लिए क्रियान्वयन योग्य एजेंडा की भूमि तैयार करना है।

अगर हम आकड़ो की बात करें तो BHAGAalPUR NOW के पास जो डाटा उपलब्ध है ,6 देश एवं 20 राज्यों के 142 प्रतिष्ठित शख्सियत, 4,219 कॉलेजों से 28,901 युवा एसोसिएट्स NAF से जुड़ चुके हैं। सामाजिक संगठनों ने भी NAF को अपना समर्थन दे दिया है।
अभी तक विविध समूह एवं संगठन के लोगों से समर्थन हासिल कर चुका है, जिसमें ये लोग शामिल हैं :

  • प्रो. रामजी सिंह (स्वतंत्रता सेनानी एवं भारत में गांधीवादी विचार के अध्ययन में अग्रणी), डॉ. रविन्द्र कुमार (पद्म श्री सम्मान से सम्मानित), नटवर ठक्कर (पद्म श्री एवं जमनालाल बजाज सम्मान से सम्मानित), डॉ. डी. चेल्लादुरई (डीन, गांधी रिचर्स फाउंडेशन), बाजी मोहम्मद (स्वतंत्रता सेनानी) जैसे गांधीवादी लोगों ने समर्थन दिया है।
  • श्रीमती तीजनबाई (कलाकार एवं पद्म भूषण से सम्मानित राजन मिश्रा (भारतीय शास्त्रीय संगीत गायक एवं पद्म भूषण से सम्मानित), डॉ. ब्रह्म दत्त (कुष्ठरोग के क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य के लिए पद्म श्री से सम्मानित), डॉ उषा किरण (पद्म श्री एवं साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित) एवं अन्य नागरिक सम्मान से सम्मानित लोगों ने अपना समर्थन दिया है।
न्यायाधीश एन. एन. माथुर (राजस्थान एवं गुजरात हाई कोर्ट के भूतपूर्व न्यायाधीश), श्री रणजीत शेखर मूशहरी (मेघालय के पूर्व राज्यपाल) जैसे प्रतिष्ठित सरकारी कर्मचारियों ने समर्थन दिया है।
सुश्री मैरी कॉम (बॉक्सर एवं ओलंपिक पदक विजेता), सुश्री बबीता फोगाट (पहलवान एवं कॉमनवेल्थ गेम्स में पदक विजेता), श्री आई एम विजयन (भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान), ईश्वर पांडेय (क्रिकेटर) जैसे खेल से जुड़े लोगों ने समर्थन दिया है।
श्री पीयूष मिश्रा (अभिनेता, पटकथा लेखक एवं गीतकार), श्याम रंगीला (मिमिक्री आर्टिस्ट), पम्मी बाई (गायक, गीतकार एवं भंगड़ा डांसर) एवं अन्य मनोरंजन से जुड़ी शख्सियतों ने अपना समर्थन दिया है

इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमिटी (I-PAC) छात्रों एवं युवा पेशेवरों की पंसद का एक ऐसा मंच है, जो उन्हें किसी भी राजनीतिक पार्टी के साथ जुड़े बिना देश की राजनीति एवं प्रशासन में अर्थपूर्ण भागीदारी का अवसर प्रदान करता है।

2013 में सिटिजन फॉर एकाउंटेबल गवर्नेंस (CAG) के रूप में शुरू हुए I-PAC ने विविध शैक्षणिक एवं पेशेवर पृष्ठभूमि से जुड़े मेधावी युवाओं को एक साथ लाकर, उन्हें चुनावी प्रक्रिया का हिस्सा बनने एवं नीति-निर्धारण में प्रभावी योगदान देने का एक अनूठा अवसर प्रदान किया है।
I-PAC बेहतर ट्रैक रिकॉर्ड वाले दूरदर्शी नेताओं के साथ काम करता है। इस प्रक्रिया में, I-PAC नेताओं को नागरिक-केंद्रित एजेंडा तय करने, उन्हें मूर्त रूप देने और जनता के बीच ले जाने के सबसे प्रभावी तरीकों को अपनाने एवं व्यापक जन-समर्थन प्राप्त करने में मदद करता है


इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमिटी (I-PAC) छात्रों एवं युवा पेशेवरों की पंसद का एक ऐसा मंच है, जो उन्हें किसी भी राजनीतिक पार्टी के साथ जुड़े बिना देश की राजनीति एवं प्रशासन में अर्थपूर्ण भागीदारी का अवसर प्रदान करता है।

I-PAC बेहतर ट्रैक रिकॉर्ड वाले दूरदर्शी नेताओं के साथ काम करता है। इस प्रक्रिया में, I-PAC नेताओं को नागरिक-केंद्रित एजेंडा तय करने, उन्हें मूर्त रूप देने और जनता के बीच ले जाने के सबसे प्रभावी तरीकों को अपनाने एवं व्यापक जन-समर्थन प्राप्त करने में मदद करता है

क्या हैं NAF के मुख्य 4 कार्य बिंदु-

प्रशांत किशोर की रणनीति के मुताबिक, देश के लोगों को एक विकल्प देने की तैयारी है। इस प्रोग्राम के मुताबिक, 11 जुलाई 2018 से देश के सामने अहम प्राथमिकता और नेता चुनने के लिए वोटिंग की शुरुआत होगी। जिसके नतीजे 15 अगस्त को आएंगे

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here