अतिक्रमण  हटाने गयी पुलिस हुई बैरंग वापस, करना पड़ा लोगों के भारी विरोध का सामना

0
15

मधुरेश,मुजफ्फरपुर; उत्तर बिहार के प्रमुख शहर मुजफ्फरपुर में आज पब्लिक के सामने पुलिस एक ना चली। सदर अस्पताल की जमीन पर से अतिक्रमण हटाने के लिए मजिस्ट्रेट के साथ गई पुलिस को लोगों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा। हालात ऐसे बन गये कि मजिस्ट्रेट सहित पुलिस को मौके से बैरंग वापस लौटना पड़ा।  सरकारी जमीन पर दशकों से गुजर-बसर कर रहे लोगों का कहना था कि वे यहां बीते पचास-पचपन साल  से रहते हैं। अब सरकार हटाने चली है तो आखिर परिवार के साथ हमलोग कहां जाएं। लोगों का कहना था कि सरकार पहले घर बसाएं फिर उजाड़ने की बात करे। सदर अस्पताल की जमीन पर से  अतिक्रमण को हटाने के लिए मुशहरी के सीओ नागेंद्र कुमार के नेतृत्व में भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा था।
मजिस्ट्रेट के समझाने पर भी लोग वहां से हटने को तैयार नहीं हुए। उन्होंने मोहल्ले वासियों से आग्रह  भी किया लेकिन बात नहीं बनी। लोगों ने हंगामा कर दिया। उनका कहना था कि जब तक उन्हें जमीन का पर्चा देकर बसाया नहीं जाएगा तबतक वे इस जमीन को खाली नहीं करेंगे।स्थिति की नाजुकता को देखते  हुए सीओ ने वरीय पदाधिकारियों से बात की और बगैर अतिक्रमण हटाये पुलिस बल के साथ वापस चले  गए।
मालूम हो कि सदर अस्पताल के पीछे बैंक रोड की ओर से बहुत दिन पहले करीब डेढ़ सौ लोगों ने झोपड़ी की बस्ती बना ली है। वे सभी वहां पूरे परिवार के साथ रह रहे हैं। बस्ती के अंदर तक पीसीसी सड़क भी बनी है। इस अतिक्रमण लेकर गुड्डू बाबा ने हाईकोर्ट में अपील दायर की थी। हाईकोर्ट के आदेश का अनुपालन कराने के लिए पिछले साल से प्रशासन प्रयास कर रहा है। पिछले साल नवंबर में भी वहां से पुलिस को खाली हाथ ही लौटना पड़ा था। अब यक्ष प्रश्न यह है कि कडा़के की इस सर्दी के मौसम में अगर जिला प्रशासन असहाय गरीबों की झोपड़ी तोड़ कर उन्हें हटा देता है तो आखिर ये गरीब कहां जायेंगे।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here